लोदी गार्डन और संजय झील में बनेगा सिंथेटिक ट्रैक 

अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली
Published by: दुष्यंत शर्मा
Updated Sat, 16 Apr 2022 06:41 AM IST

सार

एनडीएमसी के उपाध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने बताया कि सिंथेटिक ईपीडीएम ट्रैक को पैदल मार्ग पर तैयार किया जाएगा। वॉकवे की लंबाई करीब 1750 मीटर जबकि चौड़ाई 1.5 मीटर होगी। लोदी गार्डन में सिंथेटिक ईपीडीएम जॉगिंग ट्रैक बनाने से रोजाना सुबह के वक्त पहुंचने वालों को सहूलियत होगी। पैदल मार्ग की लंबाई करीब 2750 मीटर जककि चौड़ाई 2 से 3 मीटर होगी।

ख़बर सुनें

स्वच्छ भारत मिशन और भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्षों को आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर नई दिल्ली पालिका परिषद (एनडीएमसी) ने आगंतुकों और सुबह सैर करने वालों के लिए प्रमुख पार्कों को एक ही तर्ज पर विकसित करने का निर्णय लिया है। इसके तहत लक्ष्मीबाई नगर के संजय झील और लोदी गार्डन में सिंथेटिक ट्रैक बनाए जाएंगे। नेहरु पार्क में दौड़ने वालों की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए विशेष ट्रैक तैयार किया जाएगा। 

एनडीएमसी के उपाध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने बताया कि सिंथेटिक ईपीडीएम ट्रैक को पैदल मार्ग पर तैयार किया जाएगा। वॉकवे की लंबाई करीब 1750 मीटर जबकि चौड़ाई 1.5 मीटर होगी। लोदी गार्डन में सिंथेटिक ईपीडीएम जॉगिंग ट्रैक बनाने से रोजाना सुबह के वक्त पहुंचने वालों को सहूलियत होगी। पैदल मार्ग की लंबाई करीब 2750 मीटर जककि चौड़ाई 2 से 3 मीटर होगी।

उपाध्याय ने बताया कि आरामदायक और धूल मुक्त ट्रैक पर जॉगिंग के लिए ट्रैक बनाया जाएगा। इसके लिए पेड़ों को नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा। लोदी गार्डन में 2.5 करोड़ रुपये, संजय झील में 1.6 करोड़ रुपये जबकि नेहरु पार्क में 60 लाख रुपये की लागत का अनुमान है। निविदा प्रक्रिया पूरी करने के बाद कार्य शुरू किया जाएगा। इसी वित्तीय वर्ष में इन परियोजनाओं को पूरा कर लिया जाएगा। 

उपाध्याय ने कहा कि प्रधानमंत्री ने 2014 के दौरान स्वच्छ भारत की घोषणा की थी कि सभी शहर में बाजार, सार्वजनिक स्थलों, सड़कों, पार्कों में स्वच्छता सुनिश्चित की जाएगी। इस पहल का उद्देश्य एनडीएमसी क्षेत्र को स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 में 7 स्टार रैंक हासिल करना है। 

स्पाइक्स जूते से ट्रैक को हो रहा है नुकसान
उपाध्याय ने बताया कि नेहरु पार्क में सिंथेटिक ईपीडीएम जॉगिंग ट्रैक के बाद रनिंग ट्रैक (विशेष रूप से दौड़ने के लिए) बनाया जाएगा । उन्होंने बताया कि नेहरु पार्क में पहुंचने वाले एथलीट, छात्रों और धावकों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। इस दौरान स्पाइक्स जूते का इस्तेमाल किए जाने की वजह से ट्रैक को नुकसान हो रहा है। इसकी लगातार निगरानी के सुरक्षा गार्ड और साइन बोर्ड लगाए गए हैं ताकि ट्रैक को नुकसान न हो। विशेष रनिंग ट्रैक में ईपीडीएम सिंथेटिक ट्रैक से बना है और सार्वजनिक उपयोग के लिए पहली बार 4 लेन के साथ लगभग 160 मीटर लंबाई में चलने के लिए इसका उपयोग किया जाएगा। एक सिंथेटिक रनिंग ट्रैक का आम जनता एथलेटिक ट्रैक के रूप में इस्तेमाल कर सकेंगे। एक साथ चार खिलाड़ी इसका उपयोग कर सकेंगे। 

विस्तार

स्वच्छ भारत मिशन और भारत की स्वतंत्रता के 75 वर्षों को आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर नई दिल्ली पालिका परिषद (एनडीएमसी) ने आगंतुकों और सुबह सैर करने वालों के लिए प्रमुख पार्कों को एक ही तर्ज पर विकसित करने का निर्णय लिया है। इसके तहत लक्ष्मीबाई नगर के संजय झील और लोदी गार्डन में सिंथेटिक ट्रैक बनाए जाएंगे। नेहरु पार्क में दौड़ने वालों की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए विशेष ट्रैक तैयार किया जाएगा। 

एनडीएमसी के उपाध्यक्ष सतीश उपाध्याय ने बताया कि सिंथेटिक ईपीडीएम ट्रैक को पैदल मार्ग पर तैयार किया जाएगा। वॉकवे की लंबाई करीब 1750 मीटर जबकि चौड़ाई 1.5 मीटर होगी। लोदी गार्डन में सिंथेटिक ईपीडीएम जॉगिंग ट्रैक बनाने से रोजाना सुबह के वक्त पहुंचने वालों को सहूलियत होगी। पैदल मार्ग की लंबाई करीब 2750 मीटर जककि चौड़ाई 2 से 3 मीटर होगी।

उपाध्याय ने बताया कि आरामदायक और धूल मुक्त ट्रैक पर जॉगिंग के लिए ट्रैक बनाया जाएगा। इसके लिए पेड़ों को नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा। लोदी गार्डन में 2.5 करोड़ रुपये, संजय झील में 1.6 करोड़ रुपये जबकि नेहरु पार्क में 60 लाख रुपये की लागत का अनुमान है। निविदा प्रक्रिया पूरी करने के बाद कार्य शुरू किया जाएगा। इसी वित्तीय वर्ष में इन परियोजनाओं को पूरा कर लिया जाएगा। 

उपाध्याय ने कहा कि प्रधानमंत्री ने 2014 के दौरान स्वच्छ भारत की घोषणा की थी कि सभी शहर में बाजार, सार्वजनिक स्थलों, सड़कों, पार्कों में स्वच्छता सुनिश्चित की जाएगी। इस पहल का उद्देश्य एनडीएमसी क्षेत्र को स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 में 7 स्टार रैंक हासिल करना है। 

स्पाइक्स जूते से ट्रैक को हो रहा है नुकसान

उपाध्याय ने बताया कि नेहरु पार्क में सिंथेटिक ईपीडीएम जॉगिंग ट्रैक के बाद रनिंग ट्रैक (विशेष रूप से दौड़ने के लिए) बनाया जाएगा । उन्होंने बताया कि नेहरु पार्क में पहुंचने वाले एथलीट, छात्रों और धावकों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। इस दौरान स्पाइक्स जूते का इस्तेमाल किए जाने की वजह से ट्रैक को नुकसान हो रहा है। इसकी लगातार निगरानी के सुरक्षा गार्ड और साइन बोर्ड लगाए गए हैं ताकि ट्रैक को नुकसान न हो। विशेष रनिंग ट्रैक में ईपीडीएम सिंथेटिक ट्रैक से बना है और सार्वजनिक उपयोग के लिए पहली बार 4 लेन के साथ लगभग 160 मीटर लंबाई में चलने के लिए इसका उपयोग किया जाएगा। एक सिंथेटिक रनिंग ट्रैक का आम जनता एथलेटिक ट्रैक के रूप में इस्तेमाल कर सकेंगे। एक साथ चार खिलाड़ी इसका उपयोग कर सकेंगे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.