यूजी एडमिशन को समझाने के लिए वेबिनार आयोजित, 12वीं के एनसीईआरटी पाठ्यक्रम के आधार पर ही होगा सीयूईटी

सार

डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. पंकज अरोड़ा ने बताया कि सीयूईटी का पाठ्यक्रम नया नहीं है। यह 12वीं के एनसीईआरटी पाठ्यक्रम पर आधारित है। इसलिए सीयूईटी को लेकर बिल्कुल भी घबराएं नहीं।

ख़बर सुनें

दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नात्तक स्तर के दाखिले के लिए होने वाले कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (सीयूईटी) से जुड़ी जानकारी देने के लिए जाकिर हुसैन कॉलेज ने वेबिनार आयोजित किया। इस वेबिनार में डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ पंकज अरोड़ा, डीन दाखिला समिति प्रो. हनीत गांधी व ज्वाइंट डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. गुरप्रीत सिंह टुटेजा उपस्थित थे।

वेबिनार में छात्रों की सीयूईटी से जुड़ी हर उलझन को दूर करने का प्रयास किया गया। इस वेबिनार में दाखिला समिति डीन प्रो. हनीत गांधी ने दाखिले से जुड़ी पूरी प्रक्रिया को समझाया। वेबिनार के अंत में छात्रों के सवाल भी लिए गए। डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. पंकज अरोड़ा ने बताया कि सीयूईटी का पाठ्यक्रम नया नहीं है। यह 12वीं के एनसीईआरटी पाठ्यक्रम पर आधारित है। इसलिए सीयूईटी को लेकर बिल्कुल भी घबराएं नहीं। सीयूईटी के लिए बारहवीं का पूरा पाठ्यक्रम पढ़ना जरूरी है। केवल सीबीएसई के टर्म-2 के पाठ्यक्रम को पढ़ कर पेपर न दें। इसके लिए टर्म-1 के पाठ्यक्रम को भी जरूर पढ़ें। 

डॉ. अरोड़ा ने छात्रों व अभिभावकों को बताया कि डीयू में स्ट्रीम बदलाव करने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। जैसे 2021 में स्ट्रीम का विकल्प था वैसा ही इस बार भी है। फॉर्म भरने में कोई गलती न हो इसके लिए डीयू के ट्यूटोरियल्स को देखा जा सकता है, वह डीयू की दाखिला वेबसाइट पर उपलब्ध है।

प्रो. हनीत गांधी ने बताया कि डीयू के स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग, नॉन कॉलिजियेट वूमेन एजुकेशन बोर्ड (एनसीवेब) व विदेशी छात्रों के लिए सीयूईटी देना अनिवार्य नहीं है। इनके दाखिले बीते सालों की तरह ही होंगे। वहीं यदि किसी छात्र को सीयूईटी का पाठ्यक्रम चाहिए तो वह सीयूईटी की वेबसाइट पर जाकर देख सकता है। वहां विषयवार पाठ्यक्रम उपलब्ध है। एक छात्रा ने सवाल किया कि सीयूईटी के बाद साक्षात्कार भी देना होगा तो इस पर बताया गया कि संगीत, फिजिकल एजुकेशन, ईसीए व स्पोर्ट्स के लिए पर्रोफोमेंस आधारित ट्रॉयल होंगे। अन्य किसी कोर्स के लिए साक्षात्कार नहीं होगा।

विस्तार

दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नात्तक स्तर के दाखिले के लिए होने वाले कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (सीयूईटी) से जुड़ी जानकारी देने के लिए जाकिर हुसैन कॉलेज ने वेबिनार आयोजित किया। इस वेबिनार में डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ पंकज अरोड़ा, डीन दाखिला समिति प्रो. हनीत गांधी व ज्वाइंट डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. गुरप्रीत सिंह टुटेजा उपस्थित थे।

वेबिनार में छात्रों की सीयूईटी से जुड़ी हर उलझन को दूर करने का प्रयास किया गया। इस वेबिनार में दाखिला समिति डीन प्रो. हनीत गांधी ने दाखिले से जुड़ी पूरी प्रक्रिया को समझाया। वेबिनार के अंत में छात्रों के सवाल भी लिए गए। डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ. पंकज अरोड़ा ने बताया कि सीयूईटी का पाठ्यक्रम नया नहीं है। यह 12वीं के एनसीईआरटी पाठ्यक्रम पर आधारित है। इसलिए सीयूईटी को लेकर बिल्कुल भी घबराएं नहीं। सीयूईटी के लिए बारहवीं का पूरा पाठ्यक्रम पढ़ना जरूरी है। केवल सीबीएसई के टर्म-2 के पाठ्यक्रम को पढ़ कर पेपर न दें। इसके लिए टर्म-1 के पाठ्यक्रम को भी जरूर पढ़ें। 

डॉ. अरोड़ा ने छात्रों व अभिभावकों को बताया कि डीयू में स्ट्रीम बदलाव करने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। जैसे 2021 में स्ट्रीम का विकल्प था वैसा ही इस बार भी है। फॉर्म भरने में कोई गलती न हो इसके लिए डीयू के ट्यूटोरियल्स को देखा जा सकता है, वह डीयू की दाखिला वेबसाइट पर उपलब्ध है।

प्रो. हनीत गांधी ने बताया कि डीयू के स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग, नॉन कॉलिजियेट वूमेन एजुकेशन बोर्ड (एनसीवेब) व विदेशी छात्रों के लिए सीयूईटी देना अनिवार्य नहीं है। इनके दाखिले बीते सालों की तरह ही होंगे। वहीं यदि किसी छात्र को सीयूईटी का पाठ्यक्रम चाहिए तो वह सीयूईटी की वेबसाइट पर जाकर देख सकता है। वहां विषयवार पाठ्यक्रम उपलब्ध है। एक छात्रा ने सवाल किया कि सीयूईटी के बाद साक्षात्कार भी देना होगा तो इस पर बताया गया कि संगीत, फिजिकल एजुकेशन, ईसीए व स्पोर्ट्स के लिए पर्रोफोमेंस आधारित ट्रॉयल होंगे। अन्य किसी कोर्स के लिए साक्षात्कार नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.