बढ़ती जा रही हैं नगर निगम की मुसीबतें, लोगों ने दर्ज कराई शिकायत, महिला आयोग ने मांगी रिपोर्ट

सार

आयोग का कहना है कि आग के कारण उत्पन्न जहरीला धुआं लोगों के घरों में घुसने और क्षेत्र में महिलाओं व बच्चों सहित सभी निवासियों के स्वास्थ्य को गंभीर रूप से प्रभावित करने के बारे में शिकायत मिली है। इसके अलावा इस घटना में लैंडफिल साइट के आसपास के कई घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं, जिससे कई महिलाएं और बच्चे बेघर हो गए हैं।

ख़बर सुनें

भलस्वा लैंडफिल साइट पर लगी आग एमसीडी नॉर्थ(उत्तरी दिल्ली नगर निगम) के लिए मुसीबत बनती जा रही है। स्थानीय लोगों ने भलस्वा लैंडफिल साइट पर लगी आग के संबंध में भलस्वा डेयरी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई। उधर, दिल्ली महिला आयोग भी इस घटना पर कड़ा रुख अपनाए हुए है। आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने आग लगने पर जवाबदेही तय करने के लिए शुक्रवार को उत्तरी दिल्ली नगर निगम के आयुक्त को समन जारी किया। दरअसल आयोग को सूचना मिली कि यहां आग के कारण क्षेत्र के निवासियों को कई स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

15 वर्षों में किए गए खर्च की दें पूरी जानकारी

स्वाति मालीवाल ने भेजे समन में उत्तरी दिल्ली नगर निगम आयुक्त से लैंडफिल को साफ करने के लिए अब तक उठाए गए कदमों के साथ-साथ पिछले 15 वर्षों में किए गए खर्च के बारे में पूरी जानकारी मांगी है। उन्होंने स्थानीय निवासियों की ओर से पिछले पांच वर्षों में लैंडफिल से संबंधित मुद्दों के बारे में दर्ज कराई गई सभी शिकायतों की प्रतियां और उन पर विस्तृत कार्रवाई रिपोर्ट की भी मांग की है। इसके अलावा आयोग ने भारत-विदेश के मॉडलों का अध्ययन कर लैंडफिल से कूड़े के निपटान के लिए नगर निगम की ओर से किए गए उपायों और अध्ययनों के संबंध में भी जानकारी मांगी है।

 

रिपोर्ट चार दिन में उपलब्ध कराने के निर्देश
आयोग ने लैंडफिल के आसपास के इलाकों के निवासियों पर सामाजिक, स्वास्थ्य, आर्थिक और पर्यावरणीय प्रभाव के अध्ययन के लिए नगर निगम की ओर से उठाए गए कदमों और वर्तमान त्रासदी के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ की गई कार्रवाई के बारे में जानकारी मांगी है। आयोग ने नगर निगम से उन लोगों को दिए गए मुआवजे का ब्यौरा भी मांगा है जिनके घर और संपत्ति को आग में नुकसान पहुंचा है। आयोग ने सभी रिपोर्ट चार दिन में उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

 

लैंडफिल साइट के आसपास के कई घर क्षतिग्रस्त
आयोग का कहना है कि उसे आग के कारण उत्पन्न जहरीला धुआं लोगों के घरों में घुसने और क्षेत्र में महिलाओं व बच्चों सहित सभी निवासियों के स्वास्थ्य को गंभीर रूप से प्रभावित करने के बारे में शिकायत मिली है। इसके अलावा इस घटना में लैंडफिल साइट के आसपास के कई घर क्षतिग्रस्त हो गए है, जिससे कई महिलाएं और बच्चे बेघर हो गए हैं।

विस्तार

भलस्वा लैंडफिल साइट पर लगी आग एमसीडी नॉर्थ(उत्तरी दिल्ली नगर निगम) के लिए मुसीबत बनती जा रही है। स्थानीय लोगों ने भलस्वा लैंडफिल साइट पर लगी आग के संबंध में भलस्वा डेयरी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई। उधर, दिल्ली महिला आयोग भी इस घटना पर कड़ा रुख अपनाए हुए है। आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने आग लगने पर जवाबदेही तय करने के लिए शुक्रवार को उत्तरी दिल्ली नगर निगम के आयुक्त को समन जारी किया। दरअसल आयोग को सूचना मिली कि यहां आग के कारण क्षेत्र के निवासियों को कई स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.