आंधी में जर्जर चहारदीवारी गिरी, दो लोगों की दबकर मौत

सार

हादसे की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस और दमकल कर्मियों ने मलबे से दोनों को बाहर निकालकर पास के अस्पताल पहुंचाया। यहां दोनों को मृत घोषित कर दिया गया।

ख़बर सुनें

उत्तर पश्चिम जिले के केशवपुरम इलाके में सोमवार शाम तेज आंधी के दौरान रामपुर रेड लाइट के पास एक जर्जर चाहरदीवारी गिर गई। इसकी चपेट में आने से दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

हादसे की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस और दमकल कर्मियों ने मलबे से दोनों को बाहर निकालकर पास के अस्पताल पहुंचाया। यहां दोनों को मृत घोषित कर दिया गया। हादसे में एक स्कूटी भी क्षतिग्रस्त हो गई है। पुलिस लापरवाही से हुई मौत का मामला दर्ज कर जांच में जुटी है।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक मृतकों की शिनाख्त आनंद पर्वत निवासी सुमित और सुल्तानपुरी निवासी भोज प्रकाश के रूप में हुई है। पुलिस ने दोनों शवों का बाबू जगजीवन राम अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव उनके परिजनों को सौंप दिया है। भोज प्रकाश अपने परिवार के साथ सुल्तानपुरी में रहता था और केशवपुरम इलाके में पॉलिश का काम करता था।

वहीं, सुमित आनंद पर्वत इलाके में रहता था और एक कंपनी में फील्ड ऑफिसर का काम करता था। सोमवार रात करीब पौने दस बजे दोनों अपने घर जा रहे थे। अभी वे लारेंस रोड के पास रामपुर लाल बत्ती के पास पहुंचे थे कि अचानक तेज आंधी चलने लगी।

आंधी से बचने के लिए वे दोनों लाल बत्ती के पास ही एक चाहरदीवारी के पास खड़े हो गए। लेकिन, आंधी के वेग से वह दीवार उनके ऊपर गिर गई। चाहरदीवारी 12 फीट ऊंची थी। दोनों उसके मलबे के नीचे दब गए।

विस्तार

उत्तर पश्चिम जिले के केशवपुरम इलाके में सोमवार शाम तेज आंधी के दौरान रामपुर रेड लाइट के पास एक जर्जर चाहरदीवारी गिर गई। इसकी चपेट में आने से दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

हादसे की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस और दमकल कर्मियों ने मलबे से दोनों को बाहर निकालकर पास के अस्पताल पहुंचाया। यहां दोनों को मृत घोषित कर दिया गया। हादसे में एक स्कूटी भी क्षतिग्रस्त हो गई है। पुलिस लापरवाही से हुई मौत का मामला दर्ज कर जांच में जुटी है।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक मृतकों की शिनाख्त आनंद पर्वत निवासी सुमित और सुल्तानपुरी निवासी भोज प्रकाश के रूप में हुई है। पुलिस ने दोनों शवों का बाबू जगजीवन राम अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव उनके परिजनों को सौंप दिया है। भोज प्रकाश अपने परिवार के साथ सुल्तानपुरी में रहता था और केशवपुरम इलाके में पॉलिश का काम करता था।

वहीं, सुमित आनंद पर्वत इलाके में रहता था और एक कंपनी में फील्ड ऑफिसर का काम करता था। सोमवार रात करीब पौने दस बजे दोनों अपने घर जा रहे थे। अभी वे लारेंस रोड के पास रामपुर लाल बत्ती के पास पहुंचे थे कि अचानक तेज आंधी चलने लगी।

आंधी से बचने के लिए वे दोनों लाल बत्ती के पास ही एक चाहरदीवारी के पास खड़े हो गए। लेकिन, आंधी के वेग से वह दीवार उनके ऊपर गिर गई। चाहरदीवारी 12 फीट ऊंची थी। दोनों उसके मलबे के नीचे दब गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.